WebSeoScout

Information Stream in Hindi

Blog
Spread the love

शायद ही कोई ऐसा इंटरनेट यूजर हो जिसने ब्लॉग का नाम ना सुना हो ! और थोड़ा बहुत अंदेशा भी है के ब्लॉग से ६ अंक वाली रोजगार भी बड़े आसानी से होती है। परन्तु ठीक से नहीं समझ है के ब्लॉग क्या है, ब्लॉग कैसे बनाये, ब्लॉग कैसे लिखें और ब्लॉग से पैसे कैसे कमाए। ये आर्टिकल आपको इन सारे सवालों के जवाब देगी।

Table of Contents

ब्लॉग क्या है ?

परिभाषा : ब्लॉग एक ऑनलाइन जर्नल या सूचनात्मक वेबसाइट है, जो एक स्वतंत्र क्रम में जानकारी देती है। ब्लॉग की खाश बात ये है की सबसे ऊपर दिखाई देने वाली पोस्ट नवीनतम पोस्ट होती हैं। और ये ब्लॉग किसी एक विषय या फिर एक से अधिक विषय पर जानकारी हो सकती है।

ब्लॉग का शब्द आया है अंग्रेजी शब्द वेब और लोग से। कोई लोग शौक रखते थे  पहले के अपनी निजी जीवन में रोज घटने वाली घटनाओं को डायरी में लिख कर रखना। और जब से इंटरनेट आया ये प्रक्रिया धीरे धीरे घाटी और आज बिलुप्त है। डायरी की जगह वेबसाइट ले ली है। और एक फर्क इतना है के प्रोफेशनल सब्जेक्ट भी ऐसी लॉगिंग में स्थान पा चुके हैं। इसलिए अगर आप किसी भी विषय को इनफॉर्मल तरीके से रेगुलर बेसिस पर लिखें तो वो एक ब्लॉग कहलाता है।

ब्लॉग क्यों की इंटरनेट पर उपलब्ध है तो इसका मतलब ज्यादा से ज्यादा लोग ब्लॉग पढ़ेंगे। जितने ज्यादा लोग पढ़ेंगे उतने ज्यादा प्रत्यक्ष या परेक्ष रूप से पैसे कमाने के सुनहरे अवसर भी है। परन्तु अब जो सवाल सामने उठ कर खड़ा है वो हैं ‘ब्लॉग कैसे बनाये’?

ब्लॉग कैसे बनाये

अगर आप एक ईमेल भेजना समझते हैं तो आप एक ब्लॉग बड़ी आसानी से बना सकते हैं। ब्लॉग बनाने के लिए हमें निम्न लिखित तीन चीज़ो की आवश्यक है।

डोमेन नाम

डोमेन नाम एक वेबसाइट का नाम होता है।  जैसे फेसबुक का डोमेन नाम है फेसबुक.कॉम, google  का है गूगल.कॉम। इन डोमेन नाम की खासियत ये हे के ये किसी एक कंपनी या फिर ब्यक्ति विशेष के नाम पर पंजीकृत रहती है। डोमेन नाम डोमेन रजिस्ट्रार कंपनी जैसे गो डैडी, होस्टगैटोर, ब्लू होस्ट, होस्टिंगर इत्यादि से ख़रीदा जाता है। ये डोमेन नाम सालाना ३० रूपए से ले कर १५०० रूपए तक हो सकता है। ये प्राइस निर्भर करता है कंपनी के ऊपर।  कभी कभी डोमेन नाम फ्री में भी मिलते हैं।

जो लोग ब्लॉग में करियर बनाना चाहते हैं वो लोग अगर डोमेन नाम फ्री में चाहते हैं तो कई सारे प्लेटफार्म ऐसे हैं जहाँ ये डोमेन नाम हमेसा के लिए फ्री में मिलता है। इसके बारेमे थोड़े आगे चर्चा करेंगे।

होस्टिंग

होस्टिंग इंटरनेट पर उपलब्ध एक खाश जगह होता हैं जहाँ एक वेबसाइट के सारे फाइल और डेटाबेस रहते हैं। बगैर होस्टिंग के इंटरनेट पर एक वेबसाइट उपलब्ध नहीं हो सकता। होस्टिंग तीन प्रकार के हैं।

शेयर्ड होस्टिंग

एक कंपनी अपने सर्वर कई सारे छोटे छोटे अंस में भाग कर होस्टिंग के रूप में उपलब्ध कराती हैं। शेयर्ड होस्टिंग सबसे सस्ती होस्टिंग होती है। और ये होस्टिंग मासिक या फिर सालाना किराये पर उपलब्ध होती है। ये किराया एक कंपनी से दूसरे कंपनी में फरक होता है। होस्टगैटोर, गो डैडी, होस्टिंगर इत्यादि कंपनी शेयर्ड होस्टिंग मासिक या फिर बरसिक किराये पर देती हैं। ये किराया मासिक १०० रूपए से १५०० रूपए तक हो सकता है।

जो लोग अपनी ब्लॉग की वेबसाइट नए स्तर पर सुरु कर रहे हैं उनके लिए शेयर्ड होस्टिं उपयुक्त है।

वर्चुअल प्राइवेट होस्टिंग

वर्चुअल प्राइवेट होस्टिंग शेयर्ड होस्टिंग से मेहेंगा होता है और शेयर्ड होस्टिंग से भी बेहतर होता है।  आम शब्दों में कहें तो शेयर्ड होस्टिंग से ज्यादा कैपेसिटी वर्चुअल होस्टिंग की होती है।

डेडिकेटेड होस्टिंग

डेडिकेटेड होस्टिंग वर्चुअल प्राइवेट होस्टिंग से बेहतर होता है। डेडिकेटेड होस्टिंग दर असल बड़ी कंपनी के लिए उपयुक्त है। इसका मासिक किराया १५००० रूपए से भी ज्यादा है।

क्या होस्टिंग फ्री में उपलब्ध हैं ?

हाँ। फ्री में उपलब्ध है। कैसे फ्री होस्टिंग प्राप्त करें निचे बताया है।

कंटेंट मैनेजमेंट सॉफ्टवेयर

डोमेन नाम प्राप्त कर ली, होस्टिंग भी प्राप्त कर ली अब बारी है ब्लॉग पोस्ट लिखने के लिए। अब सवाल ये है के आखिर ब्लॉग पोस्ट कैसे लिखें? जिनको कोडन मालूम हैं वो लोग कोड से आर्टिकल लिख लेंगे। लेकिन जिनको कोडिंग आती नहीं वो क्या करेंगे? ऐसे लोग प्रयोग करेंगे कंटेंट मैनेजमेंट सॉफ्टवेयर।

कंटेंट मैनेजमेंट सॉफ्टवेयर फ्री में उपलब्ध हैं। और जिनको कोडिंग आती है ऐसे लोग भी इस सॉफ्टवेयर का प्रयोग करते हैं। कारण ये सारी कोडन की झंझट को ख़तम कर देता है।

ऐसे सॉफ्टवेयर का नाम है वर्डप्रेस। लग भग सभी होस्टिंग सर्विस प्रोवाइडर वर्डप्रेस इंस्टालेशन का विकल्प दे रखें हैं। ७०% से भी ज्यादा ब्लॉग साइट वर्डप्रेस कंटेंट मैनेजमेंट सॉफ्टवेयर इस्तेमाल करते हैं।

ध्यान दें : कंटेंट मैनेजमेंट सॉफ्टवेयर जैसे वर्डप्रेस इसलिए इस्तेमाल की जाती है ताकि ब्लॉग पोस्ट लिखने में आसानी हो। जैसे ईमेल के अंदर हमें हैडिंग, सुब हैडिंग, बोल्ड टेक्स्ट, अंडरलाइन टेक्स्ट, फोटो इन्सर्ट, वीडियो इन्सर्ट के विकल्प मिलता है वैसे ही वर्डप्रेस के अंदर ऐसे विकल्प हैं।  और हाँ वर्डप्रेस सॉफ्टवेयर फ्री हैं।

ब्लॉग लेखन क्या है

ब्लॉग लेखन के नियमित रूप से लिखने वाली प्रक्रिया का नाम हैं। ब्लॉग शब्द मूल नाम weblog का छोटा रूप है। ब्लॉग सिर्फ ब्यक्तिगत जीवन के रोजमर्रा की जानकारी लिपिबद्ध करने तक सिमित नहीं हैं बल्कि कोई भी विषय को गहराई से आलोचना करने के खेत्र तक ब्याप्त है। अगर आप बॉडी बिल्डिंग कैसे करे इस विषय पर रोज लिखें तो ये एक ब्लॉग कहलायेगा।

 

ब्लॉग कैसे लिखें

ब्लॉग लिखने के लिए सबसे पहले तय करें कौनसे “NICHE” (विषय) पर आपको ब्लॉग्गिंग करनी हैं। उसके बाद करें डोमेन नाम पंजीकृत, होस्टिंग अकाउंट किराये पर लें,कंटेंट मैनेजमेंट सॉफ्टवेयर करें इनस्टॉल। और ब्लॉग पोस्ट लिखने के लिए आप तैयार हैं। ब्लॉग आप किसी भी भाषा में लिख सकते हैं। कोशिश करें सारे ब्लॉग पोस्ट किसी एक भाषा में हो।

ब्लॉग पोस्ट

ब्लॉग पोस्ट लिखने से पहले आप निम्न लिखित बातों का तय करें।

टाइटल

टाइटल ही पहेली चीज़ होती है जो एक वेबसाइट विजिटर पढ़ते हैं। अगर टाइटल आकर्षक ना हो तो चान्सेस हैं वो किसी दूसरी वेबसाइट पर चले जाएं। टाइटल जितना छोटा हो सके उतना छोटा रखिये।

बॉटम पैराग्राफ

ब्लॉग पोस्ट का आखरी पैराग्राफ कई मायनो में जरूरी है। सर्च इंजन के नजर में पोस्ट का निष्कर्ष की जानकारी हैं। और पाठक भी अंतिम पैराग्राफ को पढ़ कर ब्लॉग पोस्ट के बारेमे धारणा बनाते है। इसलिए आपके पोस्ट का निष्कर्ष की जानकारी अंतिम पैराग्राफ में जरूर शामिल करें।

कंटेंट स्ट्रक्चर

ज्यादातर नौसिखिये कंटेंट के स्ट्रक्चर पर ध्यान नहीं देते। सर्च इंजन के नजर में और पाठक के नजर में स्ट्रक्चर एक एहम भूमिका अदा करते हैं। कल्पना करिये एक आर्टिकल सिर्फ पैराग्राफ की बाढ़ है और एक आर्टिकल हैडिंग और सुब हैडिंग के साथ पैराग्राफ से भरा हुआ है। कौनसा एक पाठक पढ़ना पसंद करेंगे। जो आर्टिकल में हैडिंग सब हैडिंग के साथ साथ पैराग्राफ हों। कारण ऐसे आर्टिकल पढ़ने में ज्यादा रुचि उत्पन्न करते हैं।

इंटरनल एंड एक्सटर्नल लिंक्स

और एक आम गलती जो अक्सर नौसिखिये ब्लॉगर करते हैं वो हैं लिंक नहीं देते हैं। एक आर्टिकल में जो भी जानकारी होती हैं उनके समर्थन में और ज्यादा जानकारी प्राप्त करने के लिए लिंक्स देने से पाठक को ज्यादा ज्ञान हासिल करने में मदद मिलता है।

ब्लॉग के प्रकार

Fashion Blog

फैशन ब्लॉग इंटरनेट पर सबसे लोकप्रिय प्रकार के ब्लॉगों में से एक है। यह एक बड़ा विस्वा स्तरीय दर्शकों वाला एक बड़ा उद्योग है। फैशन ब्लॉगर्स विश्व भर में होने वाले कपडे ज्वेलरी ऑर्नामेंट्स इत्यादि के इवेंट में आमंत्रित भी होते हैं । अगर आपको फैशन के बारेमे भली भाँती समझ है तो आप फैशन ब्लॉग्गिंग कर सकते हैं।

Food Blog

अगर आप खाने पीने के शौकीन हैं और भिन्न किसम के खान पान की समझ रखते हैं तो आप एक बेहतर फ़ूड ब्लॉगर बन सकते हैं।

Travel Blog

लोग दुनिया घूमना पसंद करते हैं। कई मामले में लोग बेहतर विकल्प प्राप्त करने से बंचित रह जाते हैं। अगर आपको दुनिया के बेहतर जगह कैसे अछि तरीके से देख पाएं और बिभिन्न विकल्पों का फायदें लें पाएं इसकी जानकारी हैं तो आप ट्रेवल ब्लॉग बनाइये।

Music Blog

म्यूजिक की समझ है आपको। आप नए पुराने म्यूजिक उपकरणो के बारेमे अछि जानकारी रखते हैं तो म्यूजिक ब्लॉग जरूर बनाइये।

Lifestyle Blog

लोग समझ नहीं पाते हैं के किस मौके पर कैसे लाइफस्टाइल मेन्टेन करें। अगर आप लाइफस्टाइल में गहराई से समझ रखते हैं तो ब्लॉग लिख कर लोगो की मदद जरूर करें।

Fitness Blog

काम की तनाव,  गलत खान पान की आदत और आलस पन की वजह से लोग फिट नहीं रह पाते। आप फिटनेस के गुरु हैं तो कैसे आसानी से फिट रहे उसके बारेमे जानकारी लिख कर लोगो की मदद कर सकते हैं।

Sports Blog

स्पोर्ट्स एक एवरग्रीन सब्जेक्ट हैं। लोगो को हमेसा से स्पोर्ट्स में रूचि रही है। अपने काम के कारन कई बार मन पसंद स्पोर्ट्स देख नहीं पाते हैं। तो ऐसे लोगो के लिए आप स्पोर्ट्स ब्लॉग बना कर मदद कर सकते हैं।

Political Blog

राजनीती हमेसा से रोचक विषय रहा हैं। पक्ष और विपक्ष में होने वाली नोक झोक तथा सत्ताधारी सर्कार की आलोचना इंटरेस्ट का विषय रहा हैं। अगर आप पॉलिटिक्स में अछि समझ रखते हैं तो आप एक पोलिटिकल ब्लॉग बना सकते हैं।

Parenting Blog

अपनी संस्कृति में ये जरूर हास्य का विषय है के बच्चों को कैसे परवरिश करें परन्तु सत्य एहि है के शादी शुदा दम्पति करियर और प्रोफेशन के चक्कर में ये कभी समझ नहीं पाते हैं के बच्चों की परवरिश कैसे करें। आप अगर इस विषय को जानते हैं तो ऐसी दम्पति की मदद करने के लिए ब्लॉग लिख सकते हैं।

ब्लॉग में क्या लिखे

आज से एक दसक यहाँ तक आधे दसक पहले तक ब्लॉग में क्या लिखें इतना बड़ा मुद्दा नहीं था लेकिन आज ये सबसे बड़ा मुद्दा हैं। कारन आज के तारीख में आप कोई भी विषय उठा लो आपको हजारों की तागात में पोस्ट आर्टिकल मिल जायेंगे। ऐसी सूरत में अगर आपका पोस्ट आर्टिकल पाठक की आशा में उत्तीर्ण नहीं होता तो पाठक तुरंत दूसरे पोस्ट पर चले जायेंगे। इस वजह से वेबसाइट का ग्रोथ धीरे धीरे थमने लगते हैं।

ब्लॉग जब भी लिखें एक खाश बात का ध्यान रखें के आपकी लिखी हुयी आर्टिकल एक पाठक पढ़ने वाले हैं। इसलिए आपका आर्टिकल समझने में आसान और स्ट्रक्चर का खाश ध्यान रखें। ग्रामर का विषेस ध्यान दें।

जो कोई भी तथ्य आप ब्लॉग में दे रहे हैं उसके ढेर सारे जरुरत लिंक्स का शेयर जरूर करें। जब आवश्यक हो इमेज का प्रयोग जरूर करें। ब्लॉग में जिन बातों की आवस्यकता नहीं हैं उनको हटा दें।

ब्लॉग से पैसे कैसे कमाए

इसमें कोई दौराहे नहीं हैं के ब्लॉग एक लोक प्रिय प्रोफेशन बन चूका हैं क्यों की इसमें धन उपार्जन के बहुत बड़ी विकल्प हैं। लेकिन बहुत सारे नौसीखिए जान नहीं पाते हैं ये अवसर दर असल हैं क्या। निम्न लिखित तरीके हैं जिससे ब्लॉग से पैसे कमाते हैं।

Advertisement

अगर आप कोई ब्लॉग साइट विजिट करेंगे तो देखेंगे उस ब्लॉग के पोस्ट में कई सारे विज्ञापन नजर आते हैं। इसी विज्ञापन से ब्लॉग साइट के मालिक कमाते हैं। ये अद्वेर्तिसेमेन्ट एक ब्लॉग साइट के मालिक को कैसे मिलते हैं ? कई सरे एडवरटाइजिंग एजेंसी हैं जो ब्लॉग साइट पर विज्ञापन दिखाते हैं। ये ब्लॉग साइट के मालिक तय करते हैं और उस एजेंसी पर आवेदन करते हैं। आवेदन स्वीकार होने के बाद एडवरटाइजिंग एजेंसी द्वारा दिए गए कोड को कॉपी और पेस्ट करना होता हैं अपनी ब्लॉग साइट के अंदर। बस, इसके बाद से जब कोई भी विजिटर ब्लॉग साइट विजिट करेंगे तब विज्ञापन दिखाई देते हैं और इससे ब्लॉग साइट के मालिक कमाई करते हैं।

वैसे दुनिया भर सबसे ऊँचा नाम जिस एडवरटाइजिंग एजेंसी का हैं वो हैं एडसेंस। ब्लॉग साइट के मालिक को एडसेंस कंपनी दूसरे कंपनी के मुक़ाबले ज्यादा कमीशन भुगतान करते हैं। एडसेंस गूगल कंपनी की एडवरटाइजिंग सखा है।

Affiliate Marketing

एक ब्लॉग साइट से धन उपार्जन का और एक साधन हैं एफिलिएट मार्केटिंग। एफिलिएट मार्केटिंग एक तरह का मार्केटिंग ही है जिसमे ब्लॉग साइट के मालिक एक कंपनी के प्रोडक्ट को बिकवा देने में मदद करते हैं और बदले में कंपनी कमीशन देती है। इसके लिए जो कंपनी एफिलिएट मार्केटिंग प्रोग्राम का विकल्प दे राखी हैं वैसे कंपनी के एफिलिएट मार्केटिंग को ज्वाइन करना होगा। और फिर उसके बाद उस कंपनी के प्रोडक्ट के बारेमे आर्टिकल लिखनी होगी और फिर उस आर्टिकल के अंदर उस कंपनी के प्रोडक्ट के लिंक देना होगा। अगर को उस लिंक पर क्लिक कर प्रोडक्ट खरीदता हैं तो कंपनी कमीशन देती हैं।

ये कमीशन प्रोडक्ट के प्राइस का ५% से ले कर ६०% या उससे भी अधिक होता है। भारत में जो सबसे बड़े नाम कमा चुकी एफिलिएट मार्केटिंग हैं वो हैं अमेज़न एफिलिएट मार्केटिंग  प्रोग्राम (Amazon Associate Program) और फ्लिपकार्ट एफिलिएट मार्केटिंग प्रोग्राम।

कल्पना करिये आपने अमेज़न के ६०००० रूपए वाले लैपटॉप के बारेमे जानकारी लिखी हैं आपके ब्लॉग साइट के अंदर और एक महीने में आपने सिर्फ १० लैपटॉप सेल करवा दिए। अगर हर लैपटॉप में १० % का कमीशन है तो आपने बड़े आरामसे ६०००० रूपए बना लिए। ये तो सिर्फ एक प्रोडक्ट था। आप भली भाँती जानते होंगे अमेज़न में कितने प्रोडक्ट हैं।

Paid Article

कई बार कंपनी और दूसरे ब्यक्ति विषेस एक ख़ास विषय जैसे कंपनी के नए फीचर्स होगये या फिर कोई एक व्यक्ति सस्ते दामों में डिजिटल मार्केटिंग की सेवा दे रहा हैं, वैसे लोग उनके बारेमे आर्टिकल पब्लिश करना चाहते हैं। अगर वो खुद लिखेंगे तो  काफी समय का खपच होगा। इसलिए वो ब्लॉग साइट के मालिक को संपर्क कर अपनी जरूरत बताते हैं। ब्लॉग साइट के मालिक अपनी फी बता कर ब्लॉग पोस्ट आर्टिकल लिखते हैं। और इस आर्टिकल के बदले पेमेंट लेते हैं।

Selling Products

आपके पास कोई प्रोडक्ट हो जैसे टीशर्ट, पैंट, स्नैक्स, आचार कोई भी जो आप सेल करना चाहते हों उसको आप आपके ब्लॉग साइट के जरिये बेच सकते हैं। अगर आपको कोड़िंग भी नहीं आती तो आप तब भी  वर्डप्रेस और वर्डप्रेस के प्लगइन वूकमर्स की मदद से सेल कर सकते हैं। इससे आपके वेबसाइट पर लोग ऑनलाइन भुक्तान करेंगे और आपको उनके दिए हुए पत्ते पर डिलीवरी देनी होगी।

Selling Services

अगर आप कोई सेवा देते हैं जैसे डिजिटल मार्केटिंग, वेबसाइट बनाना, फोटो एडिट करना, वीडियो एडिट करना तो आप आपके वेबसाइट के जरिये आपकी सेवाओं को लोगो तक पहुंचा सकते हैं। वर्डप्रेस और वूकमर्स प्लगइन के मदद से आप बगैर कोडिंग किये हुए ऑनलाइन पेमेंट हासिल कर सकते हैं।

फ्री ब्लॉग कैसे बनाये

अब तक आप समझ चुके होंगे के ब्लॉग साइट बनाने के लिए हमें डोमेन नाम, होस्टिंग और एक कंटेंट मैनेजमेंट सॉफ्टवेयर की जरुरत होती हैं। और मासिक खर्चा कमसे काम ५०० रूपए तक आ सकता है। ऐसे बहुत सारे प्रत्यासी ब्लॉगर हैं जो ब्लॉग्गिंग करना चाहते हैं परन्तु उनके पास आर्थिक पाबन्दी होती हैं। ऐसे लोगों के लिए फ्री प्लेटफार्म उपलब्ध हैं।

निम्न लिखित फ्री प्लेटफार्म की खाश बात ये हैं के ये फ्री में डोमेन नाम, फ्री होस्टिंग और फ्री कंटेंट मैनेजमेंट सॉफ्टवेयर देते हैं।

Blogger

Blogger – गूगल कंपनी की एक साखा है। यहाँ पर फ्री में डोमेन नाम और होस्टिंग मिलता है। और एक खाश बात ब्लॉगर पर अगर आपका ब्लॉग साइट है तो आप ऐडसेंस के लिए अप्लाई कर सकते हैं। इसमें आप एक से अधिक ब्लॉग साइट फ्री में बना सकते हैं।

Wix

Wix– वीक्स ब्लॉगर की तरह एक और प्लेटफार्म हैं जहाँ पर आप फ्री में ब्लॉग साइट बना सकते हैं और ब्लॉग पोस्ट लिख सकते हैं।

Weebly

Weebly– Weebly पर आप फ्री में एक ब्लॉग साइट बना सकते हैं और ब्लॉग आर्टिकल लिख सकते हैं।

WordPress

WordPress– WordPress के बारेमे मैंने आपको बताया के वर्डप्रेस एक कंटेंट मैनेजमेंट सॉफ्टवेयर हैं जिसकी मदद से वेबसाइट के अंदर आर्टिकल लिखते हैं और मैनेज करते हैं। ये बात बिलकुल सत्य है। वर्डप्रेस एक सॉफ्टवेयर पैकेज के साथ साथ फ्री वेबहोस्टिंग प्रोवाइडर है। वर्डप्रेस के वेबसाइट पर जा कर आप फ्री मैं डोमेन नाम एक ले सकते हैं और एक ब्लॉग साइट बना सकते हैं।

अपना ब्लॉग कैसे शुरू करें

तो आपने अब तक समझ चुके होंगे के ब्लॉग बनाने के लिए हमको डोमेन नाम रजिस्ट्रेशन करना होगा और होस्टिंग लेनी होगी। या फिर फ्री डोमेन नाम रजिस्ट्रेशन करना होगा और फ्री होस्टिंग लेनी होगी।

अगर फ्री में होस्टिंग मिल  रहा है तो कोई क्यों भला पेड होस्टिंग के लिए सोचेगा?

वो इसलिए क्यों की फ्री डोमेन रजिस्ट्रेशन और फ्री होस्टिंग में कई सिमित विकल्प होते हैं। जैसे के फ्री डोमेन नाम पर लिखे गए आर्टिकल सर्च रिजल्ट में देरी से नजर आते हैं। फ्री होस्टिंग पर आप डायरेक्ट पेमेंट ग्रहण नहीं कर सकते। और भी कई सारे वजह से पेड होस्टिंग लेना होता है।

आप अपने जरुरत के हिसाबसे होस्टिंग और डोमेन नाम लेने के बाद ब्लॉग आर्टिकल लिखें। कोसिस करें रोज लिखने के लिए। अगर रोज लिख नहीं पाते हैं तो कोसिस करें हफ्ते को कम से कम ३ या ४ आर्टिकल जरूर लिखें।

ब्लॉग का महत्व

ब्लॉग का अपना महत्त्व है। २०१६ के बाद से (जिओ इंटरनेट रेवोलुशन) भारत में अचानक से इंटरनेट उपभोक्ताओं की संख्या बढ़ गयी है। और लोग चाहते हैं अपने दम पर अपनी कंपनी बनाएं। अपने दम पर ६ अंक से ज्यादा वाली रोजगार हासिल करें। और खुद का बॉस खुद बने। ये तमाम जज्बात और सोच को पनाह देता हैं ब्लॉग। ब्लॉग में मेहनत बहुत काम हैं, ६ अंक से ज्यादा रोजगार का अवसर है, और इसमें ब्लॉग साइट के मालिक खुद के मालिक होते हैं।

ब्लॉग का उपयोग

आम तौर पर लोग ये मानते हैं ब्लॉग सिर्फ के उपार्जन का माध्यम हैं। जब की पूरी तरीके से ऐसी सोच सत्य नहीं हैं। ब्लॉग बेसक एक अचे रोजगार का साधन हैं परन्तु ब्लॉग के बहुत सारे फायदे हैं। जैसे के एक कंपनी अपने वेबसाइट पर कोई सेवा दे राखी हैं। तो उनको ढेर सारे फ्री ट्रैफिक चाहिए होता है वेबसाइट पर। और ये ट्रैफिक प्राप्त होता है ब्लॉग्गिंग से।  अगली बार आप कोई भी कंपनी वेबसाइट विजिट करो आपको ब्लॉग का एक सेक्शन दिखेगा जरूर।

ब्लॉग के फायदे

ब्लॉग के निम्न लिखित फायदे हैं :

  1. कम खर्चे पर ज्यादा रोजगार का विकल्प है
  2. दुनिया के लोगो के साथ ज्ञान बांटना
  3. अपनी वेबसाइट के लिए फ्री में ट्रैफिक लाना
  4. लोगो के बिचारों को समझना।
  5. अपनी प्रोडक्ट या सेवाओं को बेचना

ब्लॉग लिखने के तरीके

ब्लॉग लिखने के काफी तरीके हैं लेकिन जो सबसे ज्यादा लोक प्रिय है वो हैं :

  1. रोजाना एक आर्टिकल लिखना
  2. स्पीच टो टेक्स्ट सॉफ्टवेयर का प्रयोग करना
  3. कंटेंट राइटर की मदद लेना
  4. पेड आर्टिकल लिखवाना

मोबाइल से ब्लॉग कैसे बनाये

वर्डप्रेस वेबसाइट, ब्लॉगर वेबसाइट बड़ी आसानी से मोबाइल से क्रिएट किया जा सकता है। मोबाइल से ब्लॉग करने के लिए ब्लॉगर साइट पर लॉगिन करिये और एक ब्लॉग साइट क्रिएट करिये। या फिर वर्डप्रेस वेबसाइट विजिट करिये और एक ब्लॉग साइट क्रिएट करिये।

एक बार जब आप ब्लॉग साइट बना लेते हैं तब आप लॉगिन कर ब्लॉग पोस्ट लिख सकते हैं।  ये वेबसाइट मोबाइल फ़ोन फ्रेंडली रेस्पॉन्सिव वेबसाइट होते हैं। इसका मतलब ये डेस्कटॉप  तो बड़े आरामसे खुलते हैं और साथ ही साथ मोबाइल फ़ोन पर भी बड़े आरामसे खुलते हैं।

वेबसाइट और ब्लॉग में अंतर

एक वेबसाइट किसी प्रोडक्ट या सेवा के बारेमे होता हैं। जब की ब्लॉग एक या एक से अधिक विषय के ऊपर जानकारी होती है। एक ब्लॉग एक वेबसाइट  हैं किन्तु एक वेबसाइट एक ब्लॉग हो ऐसा जरुरी नहीं।

हिंदी में ब्लॉग कैसे लिखें

आज के तारीख में हिंदी में ब्लॉग लिखना बहुत सरल हो चूका हैं। एक तो आप खुद टाइप कर के लिख सकते हैं। या फिर टेक्स्ट तो स्पीच सॉफ्टवेयर का प्रयोग कर के भी लिख सकते हैं। ब्लॉगर में पोस्ट आर्टिकल लिखने वाली पेज पर ही किसी भी भाषा को चयन करने का विकल्प हैं। आप वो भाषा चयन करें और आप टाइप करिये वो एप्लीकेशन उस भाषा में लिख देगा।

गूगल का एक एक्सटेंशन हैं क्रोम ब्राउज़र के लिए – गूगल इनपुट टूल्स। इसका एक्सटेंशन इनस्टॉल करने के बाद आपको मन चाहा भाषा सेट करना होगा और उसके बाद आप आप उस भाषा में लिख सकते हैं।

Conclusion

उम्मीद है आप समझ गए होंगे के ब्लॉग किसे कहते हैं, ब्लॉग कैसे लिखें, ब्लॉग से कैसे पैसे कमाए और हिंदी में ब्लॉग कैसे लिखें।